Friday , March 1 2024
Breaking News
Home / अन्य / आज सीएम योगी बदायूं और शाहजहांपुर का करेंगे दौरा

आज सीएम योगी बदायूं और शाहजहांपुर का करेंगे दौरा

न्यूज़ जंगल डेस्क,कानपुर : सीएम योगी आदित्यनाथ का इन दिनों दो-दो जिलों का दौरा चरम पर है। सोमवार को शामली तथा रामपुर को करोड़ों का तोहफा देने के बाद मंगलवार को सीएम योगी आदित्यनाथ बदायूं और शाहजहांपुर के दौरे पर रहेंगे। उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर बेहद गंभीर सीएम योगी आदित्यनाथ मंगलवार को रूहेलखंड क्षेत्र के जिलों को मथेंगे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को लखनऊ से रवाना होकर दिन में करीब 11 बजे बदायूं पहुंचेंगे। उनका प्रमोद इंटर कालेज में 50 परियोजनाओं के लोकार्पण तथा 309 परियोजनाओं के शिलान्यास का कार्यक्रम है। इसके साथ ही वह सहसवान में एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे। मुख्यमंत्री इसके बाद शाहजहांपुर के लिए प्रस्थान करेंगे। का शिलान्यास करेंगे।

मुख्यमंत्री करीब 12:30 बजे शाहजहांपुर के जलालाबाद में विभिन्न योजनाओं का लोकार्पण तथा शिलान्यास करेंगे। यहां के काकोरी शहीद इंटर कॉलेज, जलालाबाद में वह जनसभा को भी संबोधित करेंगे। इसके बाद वह शाहजहांपुर शहर के लिए रवाना होंगे। यहां पर उनका 1.45 से 1.55 बजे तक पूर्व सांसद स्व.सेठ बिशनचन्द्र जी की मूर्ति के अनावरण का कार्यक्रम है। इसके बाद दोपहर में विभिन्न योजनाओं का लोकार्पण तथा शिलान्यास का कार्यक्रम है। सीएम योगी आदित्यनाथ इसके बाद रामलीला मैदान खिरनी बाग में जनसभा को संबोधित करेंगे।

शाहजहांपुर से लखनऊ वापसी के बाद देर शाम मुख्यमंत्री गोमती नदी के तट पर उत्तराखंड महोत्सव-2021 का शुभारंभ करेंगे। पंडित गोविंद बल्लभ पंत पर्वतीय सांस्कृतिक उपवन,बीरबल साहनी मार्ग, गोमती तट पर वह करीब आधा घंटा तक रहेंगे।

कैराना नौ-दस सालों से हिंदू परिवारों के पलायन को लेकर काफी चर्चा में रहा है। विधानसभा से लेकर लोकसभा और राज्यसभा तक यह मुद्दा गूंजता रहा। ऊपर से 2013 में मुजफ्फरनगर दंगे की तपिश ने जिस तरह पूरे पश्चिमी उत्तर प्रदेश की राजनीति को हिंदू-मुस्लिम के खांचे में बांटा, उसके चलते कैराना इस पूरे क्षेत्र की राजनीति का एक प्रतीक बन गया है। 
 
योगी का इस कस्बे में जाने का मतलब सिर्फ  एक स्थान पर जाना और कुछ लोगों से मिलना भर नहीं था, बल्कि इसके जरिये ऐसे मुद्दों पर अपनी सरकार की रीति-नीति का संदेश देना था। वरिष्ठ पत्रकार वीरेंद्र भट्ट कहते हैं, विपक्ष को शायद इसलिए ज्यादा परेशानी हो रही है क्योंकि इस मुद्दे पर बात उठने पर वह भी कठघरे में खड़े होंगे। पिछली सरकारें भी सवालों के घेरे में होंगी। 

यह भी देखेंःटीम इंडिया का टी-20 विश्व कप 2021 का सफर हुआ खत्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *