राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने REET रिजल्ट की आपत्तियों पर दी सफाई

0

न्यूज जगंल डेस्क: कानपुर राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने REET-2021 के रिजल्ट को लेकर आ रही आपत्तियों पर अपनी सफाई दी है। बोर्ड के अध्यक्ष और रीट के मुख्य समन्वयक डॉ. डी.पी. जारोली ने कहा कि रीट परीक्षा 2021 में प्रविष्ट होने के लिए 22 हजार से भी अधिक परीक्षार्थियों ने एक से अधिक या दो परीक्षा आवेदन पत्र ऑनलाइन भरे हैं। ऐसे अभ्यर्थियों के परीक्षा परिणाम की घोषणा उनके द्वारा ऑनलाइन भरे गए अंतिम आवेदन पत्र में दर्ज विषयों को आधार मानकर की गई है।

जारोली ने बताया कि कुछ परीक्षार्थियों ने आपत्ति की है कि उन्होंने जिन विषयों में आवेदन भरा था, उससे अलग विषयों पर परिणाम आया है। राजस्थान बोर्ड ने देश में प्रचलित परीक्षा व्यवस्थाओं के आधार पर ये फैसला किया था कि यदि परीक्षार्थी एक से अधिक आवेदन पत्र भरता है तो उसके दूसरे या अंतिम आवेदन पत्र में भरे गए विषय के आधार पर ओएमआर शीट के विषयों का मूल्यांकन कर परिणाम की घोषणा की जाए। राजस्थान बोर्ड ने भी इसी पद्धति के आधार पर रीट परीक्षा 2021 की ओएमआर शीट का मूल्यांकन कर परिणाम की घोषणा की है।

ये भी देखे: दूसरी डोज के 6 महीने बाद दिया जाएगा बूस्टर डोज, नाक से दिया जाएगा

परीक्षार्थी यह आपत्ति कर रहे हैं कि उन्होंने प्रथम आवेदन पत्र में जो विषय भरा उनके आधार पर परिणाम की घोषणा नहीं की गई। जबकि वास्तविकता यह है कि उनके अंतिम आवेदन पत्र में दर्ज विषयों के आधार पर ही ओएमआर शीट का मूल्यांकन कर परिणाम घोषित किया गया है। ओएमआर शीट पर विषय दर्ज करने की व्यवस्था नहीं होती है। ओएमआर शीट का मूल्यांकन कंप्यूटराइज तरीके से परीक्षार्थी द्वारा आवेदित विषयों के आधार पर किया जाता है।

एक ही परीक्षा केंद्र आवंटित किया था
दो से अधिक आवेदन पत्र भरने वाले परीक्षार्थियों पर अनुचित साधनों के उपयोग की आशंका को दृष्टिगत रखते हुए बोर्ड ने उन्हें एक ही परीक्षा केंद्र आवंटित किया था। बोर्ड ने 2 से अधिक आवेदन पत्र भरने वाले परीक्षार्थियों के परीक्षा केंद्रों पर निगाह रखने की दृष्टि से विशेष सतर्कता दल भेजें। इस कारण मुन्ना भाई परीक्षा देते हुए पकड़े गए। बोर्ड अध्यक्ष का दावा है कि इस व्यवस्था से उन परीक्षार्थियों के परीक्षा में डमी परीक्षार्थी बिठाने के मंसूबों पर भी पानी फिर गया।

गलती की संभावना नहीं
बोर्ड अध्यक्ष ने स्पष्ट किया है कि परीक्षा आवेदन करने से लेकर अंतिम परीक्षा परिणाम घोषणा तक पूरी परीक्षा व्यवस्था कंप्यूटराइज्ड थी। इसमें मानवीय रूप से कार्य नहीं किया जाता है। इसमें गलती की संभावना नहीं है।

20 लाख से ज्यादा परीक्षार्थी शामिल हुए
गौरतलब है कि राजस्थान की इस सबसे बड़ी परीक्षा के लेवल-1 और लेवल-2 में करीब 25 लाख से ज्यादा अभ्यर्थियों ने आवेदन किए थे। इसमें से 26 सितंबर को हुई परीक्षा में 20 लाख से ज्यादा अभ्यर्थी शामिल हुए। अलवर के दो परीक्षा केन्द्रों पर 16 अक्टूबर को परीक्षा हुई। परीक्षा से एक दिन पहले पेपर लीक होने का खुलासा पूर्व में ही एसओजी कर चुकी है। इस मामले में एसओजी की जांच भी पूरी नहीं हुई, लेकिन परीक्षा के 36 दिन बाद बोर्ड ने रिजल्ट जारी कर दिया।

13 नवंबर तक करें आवेदन
किसी भी अभ्यर्थी के श्रेणी संबंधी और विषय संबंधी शिकायत हो, तो ऐसे सभी अभ्यर्थी 13 अक्टूबर तक रीट वेबसाइट पर अपने आवश्यक दस्तावेज संलग्न कर आवेदन कर सकेंगे। इस तारीख के बाद कोई संशोधन स्वीकार नहीं किया जाएगा। बोर्ड ने यह संशोधन 8 नवंबर से शुरू किए थे।

About The Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *