पहले आम जनता को कोरोना ने मारा,अब मंगाई ने बिगाड़ा घर का बजट,देखें रिपोर्ट

0
महंगाई की मार : सीधे आपके द्वार ! - YouTube

न्यूज जंगल डेस्क,कानपुरः आम आदमी पर पहले कोरोना और अब महंगाई की मार पड़ी है. डीजल-पेट्रोल के तेजी से बढ़ते हुए दामों की वजह से ट्रांसपोर्ट काफी महंगा हो गया है, जिसकी वजह से सब्जियां काफी महंगाई हो गई हैं. महीने भर पहले 20-30 रुपये किलो में बिकने वाली सब्जियां अब 50-60 रुपये किलो में बिक रही हैं. इस महंगाई ने आमजन की कमर तोड़कर रख दी है. इसके चलते थाली से अब धीरे-धीरे सब्जियां भी गायब होने लगी है. इधर, सब्जियों के दाम बढ़ने के कारण घरों की रसोई का बजट भी गड़बड़ाने लगा है. वहीं बारिश के बाद अब सब्जियों के दाम में भी बेतहाशा इजाफा हो रहा है. आलम ये है कि हफ्ते भर में सब्जियों के दाम दो गुने हो गए है. जो हफ्ते भर पहले टमाटर 10 रुपए किलो था वो आज कई जगह 60 रुपए किलो हो गया है. जो प्याज 20 रुपए किलो था वह कई जगह 80 रुपए किलो तक हो गया है।

ट्रांसपोर्ट महंगा हो जाने की वजह से मुरैना-शिवपुरी और राजस्थान से आने बाले टमाटर, खीरा, लहसन सहित अन्य हरी सब्जियां बाजारों में सीधे दो गुना ज्यादा महंगी हो गई हैं. स्थिति यह है कि टमाटर पिछले महीने तक 20-25 रुपये किलो में बड़ी आसानी से मिल जाया करता था जो अब 50-60 रुपये किलो में मिल पा रहा है. इसी तरह से प्याज 20 रुपये किलो थी जो अब 30-35 रुपये किलो में बेची जा रही है, तोरई की बात करें तो पिछले महीने तक तोरई 20 रुपये किलो थी जो अब 35-40 रुपये किलो में बिक रही है. बैगन 20 रुपये से सीधा 40-50 रुपये किलो तक पहुंच गया है. मिर्ची, खीरा से लेकर पालक और अन्य सब्जियों के अलावा फलों के दाम भी बढ़ गए हैं. ऐसे में मध्यमवर्ग के परिवारों की थाली से सलाद के साथ-साथ हरी सब्जियां लगभग गायब सी हो गई हैं, लोग 20 से 30 रुपये किलो में बिकने बाले आलू, लौकी, करेला के अलावा घरों में दाल और बेसन से बनने बाली सब्जियों का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करने लगे हैं।

महाराष्ट्र में कोरोना नियमो और लॉक डाउन के वजह से आर्थिक सकंट झेल रहे लोगों को अब जाकर कहीं थोड़ी राहत मिल रही थी वैसे ही अब लोगों पर सब्जियों के आसमान छूते दामों ने मुसीबतें बढ़ा दी है. पिछले एक महीने में रोजमर्रा में लगने वाली सब्जियों के दाम दुगने हो गए हैं, इनमें टमाटर, प्याज , हरी मिर्च के दाम सबसे ज्यादा बढ़े हैं. राजधानी रायपुर समेत पूरे छत्तीसगढ़ में सब्जियों के दाम आसमान छू रहे हैं. स्थिति यह है कि लौकी 30 रुपए किलो के नीचे नहीं बिक रही है. वहीं टमाटर भी 80 रुपए किलो तक बिक रहा है. थोक सब्जी विक्रता संघ का कहना है कि इस बार दीवाली में भी राहत नजर नहीं होगी. वहीं हरा धनिया तक 140 रुपए तक पहुंच गया है. लौकी तक 40 रुपए किलो तक बिक रही है. आम लोगों का कहना है कि अब बजट चलाना काफी मुश्किल हो रहा है. प्रदेश भर से सब्जियां डूमरतराई बाजार आती हैं और यहीं से प्रदेश भर के लिए सब्जियां जगह-जगह भेजी जाती है। इसके जिला अध्यक्षश्रीनिास रेड्डी का कहना है कि अभी सब्जियों के दाम और बढ़ेंगे. उनका कहना है कि मौसम की मार के साथ पेट्रोल डीजल के दाम, किसानों की हड़ताल, ट्रांसपोर्टस की हड़ताल भी इसके कारण है. उनका कहना है कि इस बार दीवाली में भी थाली का बजट बिगड़ेगा।

यह भी देखेंःआगामी चुनाव को लेकर अमित शाह ने बैठक कर बनाया यह प्लान

About The Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *