Friday , March 1 2024
Breaking News
Home / अन्य / कानपुर में जीका वायरस ने पसारे पैर,संदिग्ध लक्षण वाले मिले 9 मरीज

कानपुर में जीका वायरस ने पसारे पैर,संदिग्ध लक्षण वाले मिले 9 मरीज

देश में जीका वायरस की दस्तक, जानें इसके लक्षण और बचने उपाय

न्यूज़ जंगल डेस्क,कानपुर : एयरफोर्स कर्मी में जीका वायरस (Zika Virus) संक्रमण की पुष्टि होने के बाद से ही विशेषज्ञों वाली स्वास्थ्य टीमों ने कानपुर (Kanpur) में डेरा जमाया हुआ है. लगातार सघन जांच अभियान चलाया जा रहा है. इस बीच विशेषज्ञों की टीमों ने जीका वायरस के संदिग्ध लक्षण वाले 9 व्यक्तियों की पहचान करते हुए उनके सैंपल जांच के लिए लखनऊ भेजा है. सभी संदिग्ध पोखरपुरवा और पर्देवनपुरवा निवासी हैं और हाल ही में विदेश यात्रा से लौटे हैं. इसके अलावा 16 गर्भवती महिलाओं की भी मॉनिटरिंग की जा रही है. इतना ही नहीं केंद्रीय जांच टीम के अलावा डब्लूएचओ की टीम भी ज़ीका वायरस संक्रमण के जांच में जुटी है।

उधर जीका वायरस संक्रमण की सूचना के बाद स्वास्थ्य महकमा अलर्ट पर है. दिल्ली से आई विशेषज्ञों की टीम ने यूपी स्वास्थ्य विभाग के साथ मिलकर एक माइक्रोप्लान तैयार किया है. इसके तहत जीका वायरस से संक्रमित पेशेंट के घर को केंद्र बिंदू मानकार तीन किलोमीटर की रेंज में आने वाले लगभग 55 हजार घरों का सर्वे कराया जा रहा है. इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने 70 टीमों को लगाया गया है. ये टीमें 14 दिनों में दो बार घरों का सर्वे करेंगी. इसके साथ विशेषज्ञों की टीम जीका वायरस की टै्रवल हिस्ट्री का पता लगाएगी. इसी सर्वे के तहत 9 संदिग्ध लक्षणों वाले मरीजों के सैंपल जांच के लिए लखनऊ भेजा गया है।

बता दें कि जाजमऊ पोखरपुर में रहने वाले एयरफोर्स कर्मी में जीका वायरस की पुष्टि हुई थी, जिसके बाद एयरफोर्स कर्मी के सपंर्क में आने वाले 31 लोगों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे, जिनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई थी. बावजूद इसके पिछले 15 दिनों में बुखार से पीड़ित गर्भवती महिलाओं की हिस्ट्री हैलेट अस्पताल से मांगी गई है. साथ ही यह भी जानकारी मांगी गई है कि पिछले दिनों कितने ऐसे बच्चे पैदा हुए जो कि न्यूरो की माइक्रोसेपली समस्या से ग्रसित हैं. इसके अलावा उन लोगों की भी रिपोर्ट मांगी गई है जिनने बंदरों ने काटा है. क्योंकि बंदरों के काटने से भी जीका वायरस फैलता है।

यह भी देखेंःदिन और रात के हिसाब से बदल जाते है कोरोना जांच के नतीजे,देखें खास रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *