बिना आईसीसी ट्राफी दिलाए ही सबसे छोटे फाॅर्मेट में कप्तानी छोड़ेंगे विराट

0

News Jungal Desk : कानपुर। विराट कोहली की कप्तानी में 2019 में 50 ओवर का विश्व कप और फिर इसी साल वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में टीम इंडिया को हार झेलनी पड़ी थी। खराब फॉर्म और आईसीसी इवेंट्स में लगातार नाकामी के बाद कोहली ने फटाफट क्रिकेट की कप्तानी छोड़ने का भी ऐलान कर दिया। 50 ओवर के फॉर्मेट और फिर टेस्ट में चैंपियन बनने का सपना टूटा तो फैन्स ने संतोष कर लिया और यह उम्मीद जताई कि बतौर कप्तान कोहली टी-20 में टीम को चैंपियन बनाकर विदाई लेंगे। खिताब तो छोड़िए यूएई और ओमान की धरती पर खेले जा रहे विश्व कप में विराट की अगुवाई में भारतीय टीम सुपर 12 स्टेज से आगे तक नहीं बढ़ सकी और आईसीसी इवेंट्स में कोहली की कप्तानी एकबार फिर फ्लॉप साबित हुई। 

ये भी देखें – परमाणु हथियारों का जखीरा बढ़ाने के साथ जैविक हथियार बनाने में भी जुटा चीन

टी-20 कप्तान के तौर पर विराट कोहली पहली बार विश्व कप में टीम की अगुवाई कर रहे थे और उनसे काफी उम्मीदें भी लगाई जा रही थीं। लेकिन, कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया इस टूर्नामेंट में औंधे मुंह गिरी और वर्ल्ड कप के इतिहास में टीम को पहली दफा पाकिस्तान के हाथों शर्मनाक हार झेलनी पड़ी। इसके बाद कोहली एंड कंपनी न्यूजीलैंड से भी पार नहीं पा सकी और इसी हार के साथ टीम का टूर्नामेंट से बाहर होना लगभग तय हो गया। भले ही लिमिटेड ओवर क्रिकेट में विराट का रिकॉर्ड और जीत प्रतिशत अच्छा रहा हो, लेकिन आईसीसी इवेंट्स में उनकी कप्तानी का फ्लॉप शो अब कोई नई बात नहीं रह गई है। 

धोनी के कप्तानी छोड़ने के बाद 2017 में विराट कोहली ने टीम इंडिया की बागडोर संभाली और उसी साल टीम को चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में पाकिस्तान के हाथों हार झेलनी पड़ी। इसके दो साल बाद 2019 विश्व कप में भी विराट टीम को सेमीफाइनल तक लेकर गए, पर वहां न्यूजीलैंड ने काम खराब कर दिया। टेस्ट क्रिकेट में कोहली की कप्तानी में टीम ने ऑस्ट्रेलिया को दो दफा उनके घर में धूल चटाई तो लगा कि वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का खिताब तो विराट इंग्लैंड से लेकर ही लौटेंगे। लेकिन, वहां भी फाइनल में कोहली का हर दांव उल्टा पड़ा और टीम को खाली हाथ ही लौटना पड़ा। 

About The Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *