टीम इंडिया का टी-20 विश्व कप 2021 का सफर हुआ खत्म

0
india world cup t20 team: india t20 world cup team announced: भारतीय टी20  वर्ल्ड कप टीम का होगा ऐलान - Navbharat Times

न्यूज़ जंगल डेस्क,कानपुर : न्यूजीलैंड के हाथों रविवार को अफगानिस्तान की हार के साथ ही टीम इंडिया अपनी मेजबानी में हुए टी-20 विश्व कप से बाहर हो गई। 1992 के बाद यह पहली बार है जब टीम एक मैच रहते हुए ही विश्व कप के सेमीफाइनल में पहुंचने की दौड़ से बाहर हो गई थी। उसके बाहर होते ही टीम इंडिया के एक दौर का भी अंत हो गया।

अब आपको भविष्य में कभी भी मैदान पर मुख्य कोच रवि शास्त्री और कप्तान विराट कोहली की जोड़ी नहीं दिखेगी। शास्त्री का कार्यकाल इस टूर्नामेंट तक ही था। 17 तारीख से भारत में न्यूजीलैंड के खिलाफ शुरू हो रही टी-20 सीरीज से पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ अब यह जिम्मा संभालेंगे। इसके साथ ही विराट कोहली का भी टी-20 कप्तान के तौर पर सफर खत्म हो गया। उन्होंने इस टूर्नामेंट से पहले ही कहा था कि वह टी-20 विश्व कप के बाद सबसे छोटे फार्मेट की कमान छोड़ देंगे। हालांकि, खबर यह आ रही है कि उन्हें वनडे की कप्तानी भी छोड़नी पड़ सकती है।

उप कप्तान रोहित शर्मा टी-20 और वनडे के कप्तान बनने की दौड़ में सबसे आगे हैं। नामीबिया के खिलाफ मैच से पहले टास के समय विराट ने भी इस बात के संकेत दिए थे। मैच के बाद रवि शास्त्री ने भी उनकी तारीफ करते हुए कहा कि रोहित के पास अपने आइडिया हैं। उन्होंने मुंबई इंडियंस को पांच बार खिताब दिलाए हैं

कुछ लोग राहुल को भी कप्तान बनान चाहते हैं। अगर रोहित कप्तान होंगे तो राहुल उप कप्तान होंगे। सूत्र ने कहा कि बीसीसीआइ ऐसा कप्तान चाहता है जो 2022 में आस्ट्रेलिया में होने वाले टी-20 विश्व कप और उसके अगले साल भारत में होने वाले वनडे विश्व कप में कप्तानी करे। इसका मतलब है कि विराट को वनडे की कप्तानी भी छोड़नी होगी। हालांकि, वह खिलाड़ी के तौर पर टीम का हिस्सा रहेंगे और टेस्ट टीम की कप्तानी भी करते रहेंगे।

विराट की कप्तानी में भारत 2017 में चैंपियंस ट्राफी के फाइनल में पाकिस्तान से, 2019 में वनडे विश्व कप के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से और 2021 विश्व चैंपियनिशप ट्राफी के फाइनल में न्यूजीलैंड से हारकर ट्राफी की दौड़ से बाहर हुआ। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में अपनी मेजबानी में हुए टी-20 विश्व कप में टीम इंडिया सेमीफाइनल में भी नहीं पहुंच पाई। 1992 के बाद यह पहला मौका रहा जब टीम एक मैच शेष रहते ही सेमीफाइनल की दौड़ से बाहर हो गई थी।

मुख्य कोच रवि शास्त्री, गेंदबाजी कोच भरत अरुण, क्षेत्ररक्षण कोच आर श्रीधर का भी यह आखिरी मैच है। बल्लेबाजी कोच विक्रम राठौर बने रह सकते हैं। उन्होंने फिर से इस पद के लिए आवेदन किया है। पारस महाम्ब्रे गेंदबाजी कोच बनने की दौड़ में सबसे आगे हैं। वह द्रविड़ की पसंद हैं।

यह भी देखेंःअतिशबाजी के कारण इन राज्यों में बढ़ा वायु प्रदूषण,देखें रिपोर्ट

About The Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *