आईआईटी कानपुर को दिल्ली की हवा को स्वच्छ करने की मिली जिम्मेंदारी

न्यूज जंगल डेस्क: कानपुर दिल्ली शहर की स्वच्छ हवा के लिए प्रदूषण पर रोक लगाने की तैयारी हुई है। केजरीवाल सरकार ने इसकी जिम्मेदारी आईआईटी कानपुर, दी एनर्जी एंड रिसोर्स इंस्टीट्यूट (टेरी), इंडियन इंस्टीट्यूट आफ साइंस एजुकेशन एंड रिसर्च मोहाली और आईआईटी दिल्ली की इंक्यूबेटेड कंपनी को दी है। ये संस्थान 23 माह में राज्य के अंदर के और बाहर से आने वाले वायु प्रदूषण की पड़ताल कर रिपोर्ट तैयार करेंगे। रिपोर्ट के मुताबिक सरकार कार्रवाई कर सकेगी। एक्शन प्लान बनेगा और उस पर जमीनी कार्य किया जाएगा।

ऐसा कदम क्यों लिया गया…
दिल्‍ली में हर साल ठंड के मौसम में वायु प्रदूषण की समस्या खड़ी हो जाती थी। बढ़ते प्रदुषण की वजह से सिर्फ दिल्ली ही नहीं बल्कि आसपास के जिले भी प्रभावित रहते है। लेकिन इस बार केजरीवाल सरकार ने इस समस्या से निजात पाने की बड़ी पहल की है। दिल्ली सरकार ने पांच संस्थानों के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किये है। जिसके तहत वायु प्रदूषण के रियल-टाइम सोर्स की सटीक जानकारी आने वाले हफ्ते में वायु में कितना प्रदूषण रहेगा उनका भी अनुमान लगाया जा सकेगा।

केजरीवाल सरकार के मंत्री ने एमओयू हुआ साइन…
शुक्रवार को दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने संस्थानों के अधिकारियों के साथ एमओयू साइन किया। आइआइटी कानपुर के डीन रिसर्च एंड डेवलपमेंट प्रो एआर हरीश और सिविल इंजीनियरिंग के प्रो मुकेश शर्मा शामिल हुए।

ये भी देखे: 29 नवम्बर से शुरू हो सकता है संसद का शीतकालीन सत्र, जाने क्या है खास

प्रदूषण की हो सकेगी भविष्यवाणी…
आईआईटी कानपुर के प्रो मुकेश शर्मा ने बताया कि दिल्ली में प्रदूषण की बड़े स्तर पर रिपोर्ट तैयार की जाएगी। कौन से प्रदूषण किस तरह से आ रहे हैं। उनका स्रोत और वातावरण में घनत्व क्या है, इसकी जानकारी जुटाई जाएगी। मौसम की तरह प्रदूषण की भविष्यवाणी करना आसान रहेगा। प्रदूषण वाले कारकों को रोकने का एक्शन प्लान भी तैयार किया जा सकेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *