मच्छरों के किए जा रहे सैंपल कलेक्ट

न्यूज जगंल डेस्क: कानपुर प्रदेश में जीका वायरस का पहले केस मिलने के बाद सेंट्रल से लेकर स्टेट गवर्नमेंट की टीम पूरी तरह एक्टिव हो चुकी है। वायरस को रोकने के साथ ही इस बात की भी छानबीन शुरू कर दी गई है कि आखिर यह मच्छरों में कैसे आया। इसके लिए मच्छरों के सैंपल कलेक्ट किए जा रहे हैं। अब इनकी DNA जांच कराई जाएगी। सैंपल DNA परीक्षण के लिए राष्ट्रीय मलेरिया अनुसंधान संस्थान (एनएमआरआई) दिल्ली भेजा जाएगा।

बीमारी के कारणों की होगी जांच
जीका के मामले को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी फिक्रमंद हैं। वह इसका जिक्र भी कर चुके हैं। इसके चलते मंगलवार दोपहर केंद्र सरकार की ओर से एपिडेमियोलॉजिस्ट की एक्सपर्ट टीम कानपुर पहुंच गई है। टीम बीमारी के पिछले इतिहास का अध्ययन करेगी। एपिडेमियोलॉजिस्ट मेडिकल साइंटिस्ट होते हैं। ये किसी भी बीमारी के कारणों की छानबीन करते हैं।

22 की रिपोर्ट निगेटिव, 9 सैंपल की अभी पेंडिंग परदेवनपुरवा निवासी एयरफोर्स कर्मी में जीका वायरस की पुष्टि हुई है। उनका इलाज 7 एयरफोर्स हॉस्पिटल में चल रहा है। मंगलवार को कमिश्नर डॉ. राज शेखर ने यहां का निरीक्षण किया। उन्होंने बताया कि एयरफोर्स कर्मी के संपर्क और इलाके से सैंपल कलेक्ट किए गए थे। 22 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। शाम तक 9 और लोगों की रिपोर्ट आनी है।

ये भी देखे: नाइका आईपीओ 28 को होगा लांच , जानिये सब कुछ

कमिश्नर ने परिवार के सदस्यों से की बात
कमिश्नर ने एयरफोर्स कर्मियों के परिजनों से भी बात की। सीएमओ डॉ. नेपाल सिंह ने बताया कि लखनऊ से एक टीम आई थी। चिकित्सा विशेषज्ञ टीम ने सभी परिजनों से बात की थी। ट्रैवल हिस्ट्री भी तलाशी जा रही है। वहीं कीट विज्ञान विशेषज्ञ भी इलाकों में मच्छरों को कलेक्ट कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *