बिहार:लालू परिवार में बगावत के मूड में तेज प्रताप यादव,देखें खास रिपोर्ट

0
बिहारः लालू के बड़े लाल का हाल- कमेटी के बनाए गए थे प्रभारी, पर पहली बैठक  में रहे लापता; राजनीति में भी भाई के मुकाबले हैं कम एक्टिव - Jansatta

न्यूज़ जंगल डेस्क,कानपुर : लालू प्रसाद यादव के बड़े लाल तेज प्रताप यादव बगावत के मूड में हैं। राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) के बिहार प्रदेश अध्‍यक्ष जगदानंद सिंह से अदावत का मामला बढ़कर अब बगावत तक पहुंच चुका है। इस लड़ाई में खुद को अपने अर्जुन (तेजस्‍वी यादव) का कृष्‍ण कहते रहे तेज प्रताप उनके खिलाफ खड़े नजर आ रहे हैं। आरजेडी में वे धीरे-धीरे किनारे लगा दिए गए दिख रहे हैं। इस बीच पार्टी के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष शिवानंद तिवारी द्वारा उन्‍हें पार्टी से अलग हो चुका बताने के बावजूद लालू परिवार (Lalu Family) ने चुप्‍पी साध ली है। तेज प्रताप यादव ने तारापुर विधानसभा उपचुनाव में अपने निर्दलीय उम्मीदवार संजय कुमार के पक्ष में चुनाव प्रचार करने की बात कही तो इसी बीच संजय ने तेजस्वी यादव की उपस्थिति में आरजेडी ज्‍वाइन करते हुए नामांकन वापस लेने की घोषणा कर दी है।

विधानसभा उपचुनाव में महागठबंधन (Mahagathbandhan) के दोनों घटक दलों आरजेडी व कांग्रेस (Congress) ने अपने-अपने प्रत्‍याशी दिए हैं। इस कारण महागठबंधन टूट की कगार पर पहुंच चुका है। इस बीच आरजेडी में बगावती तेवर अपनाए तेज प्रताप यादव ने तारापुर के निर्दलीय प्रत्याशी संजय कुमार (Sanjay Kumar) के लिए चुनाव प्रचार करने का एलान कर दिया। उधर, कांग्रेस नेता अशोक राम (Ashok Ram) ने कहा कि तेज प्रताप ने उनसे कुशेश्वरस्थान में कांग्रेस के लिए चुनाव प्रचार करने का वादा किया है। कुशेश्वरस्थान और तारापुर की सीटों को लेकर महागठबंधन में छि़ड़े विवाद के बीच तेज प्रताप आरजेडी की मुश्किलें बढ़ाते दिख रहे हैं। हालांकि, इस बीच बड़े घटनाक्रम में तारापुर के निर्दलीय प्रत्‍याशी संजय कुमार को तेजस्‍वी ने आरजेडी में शामिल कर तेज प्रताप की मंशा पर पानी फेर दिया है। संजय अब नामांकन वापस लेकर तारापुर से आरजेडी प्रत्याशी अरुण कुमार साह (Arun Kumar Shah) के पक्ष में प्रचार करेंगे।

तेज प्रताप यादव तारापुर के निर्दलीय प्रत्‍याशी संजय को चुनाव प्रचार का आश्‍वासन देने से इनकार करते हुए इसे तेजस्‍वी के राजनीतिक सलाहकार संजय यादव (Sanjay Yadav) की ‘फालतू सी ग्रेड स्टोरी’ करार दिया है, लेकिन इस मामले को तारापुर में तेज प्रताप यादव की बड़ी मात के रूप में देखा जा रहा है। दोनों भाइयों में शह-मात के खेल का यह पहला मामला नहीं है।

हाल हीं में तेज प्रताप यादव ने ‘कुछ लोगों’ द्वारा लालू प्रसाद यादव को बंधक बना लिए जाने का आरोप (Lalu Prasad Yadav Kept Hostage) लगाया था। लालू इन दिनों बेटी मीसा भारती (Misa Bharti) के दिल्‍ली स्थित सरकारी आवास पर हैं। तेज प्रताप का इशारा मीसा व तेजस्‍वी की ओर माना गया। जवाब में तेजस्‍वी ने भी सफाई दी कि लालू जैसे बड़े व्‍यक्तित्‍व के नेता को कोई बंधक कैसे बना सकता है।

विधानसभा उपचुनाव की हीं बात करें तो इसके स्‍टार प्रचारकों की सूची से तेज प्रताप यादव का नाम गायब है। सूची में राबड़ी देवी (Rabri Devi) व मीसा भारती (Misa Bharti) के नाम भी नहीं हैं। पार्टी के स्‍टार प्रचारकों की सूची में तेज प्रताप को नहीं रखे जाने में तेजस्‍वी की अहम भूमिका से इनकार नहीं किया जा सकता है। इससे भड़के तेज प्रताप यादव ने फिर हमला किया। उन्‍होंने राबड़ी व मीसा को सूची में जगह नहीं देने को लेकर नारी शक्ति के अपमान का आरोप भी लगा दिया।

यह भी देखेंःदिमाग को स्वस्थ रखने के लिए अपनाएं ये तरीके,होगा लाभ

About The Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *