Sunday , March 3 2024
Breaking News
Home / अन्य / Security Lapse: संसद की सुरक्षा में भारी चूक, 6 लोगों की टीम ने रची थी साजिश, जांच में जुटी दिल्ली पुलिस…

Security Lapse: संसद की सुरक्षा में भारी चूक, 6 लोगों की टीम ने रची थी साजिश, जांच में जुटी दिल्ली पुलिस…

बुधवार दोपहर में दो आरोपी अचानक सदन में कूद गए और उन्होंने कलर स्मॉग का इस्तेमाल किया, जिससे सांसदों के बीच अफतरातफरी मच गई। सांसदों ने आरोपियों को पकड़ा और उनकी पिटाई भी कर दी। इसके बाद उन्हें सदन में मौजूद मार्शल के हवाले कर दिया गया। 

News jungal desk: बुधवार को संसद की सुरक्षा में हुई चूक से जुड़े मामले को दिल्ली पुलिस ने यूएपीए की धारा के तहत दर्ज कर जांच करना शुरू कर दी है।  इस प्रकरण में दिल्ली पुलिस की खासी किरकिरी हुई है और संसद की सुरक्षा को लेकर कई सवाल भी खड़े हो गये है।  

क्या हुआ था संसद में
बुधवार दोपहर में दो आरोपी मनोरंजन डी और सागर शर्मा लोकसभा की दर्शक दीर्घा से अचानक सदन में कूद गए और उन्होंने कलर स्मॉग का इस्तेमाल किया, जिससे सांसदों के बीच अफतरातफरी मच गई। सांसदों ने आरोपियों को पकड़ा और उनकी पिटाई भी कर दी। इसके बाद उन्हें सदन में मौजूद मार्शल के हवाले कर दिया गया। 

दूसरी ओर उनके साथी नीलम और अमोल शिंदे ने संसद भवन के बाहर कलर स्मॉग का इस्तेमाल किया और जमकर नारेबाजी भी की। इसके बाद बाहर मौजूद सुरक्षा कर्मियों ने उन्हें हिरासत में ले लिया। पुलिस सूत्रों के अनुसार, ललित और विशाल शर्मा के रूप में दो अन्य आरोपी भी इस साजिश में शामिल थे। विशाल को हरियाणा के गुरुग्राम से हिरासत में लिया गया, जबकि ललित अभी तक फरार है।

पुलिस बोली- संसद की सुरक्षा में सेंध एक सुनियोजित घटना थी
पुलिस ने बताया कि 25 वर्षीय शिंदे महाराष्ट्र के लातूर जिले में स्थित अपने गांव से यह कहकर निकला था कि वह सेना भर्ती अभियान में हिस्सा लेने के लिए दिल्ली जा रहा है। जिसके बाद शिंदे ने हरियाणा की नीलम के साथ संसद के बाहर ‘तानाशाही नहीं चलेगी’, ‘भारत माता की जय’ और ‘जय भीम, जय भारत’ के नारे भी लगाए।

पुलिस सूत्रों ने कहा कि संसद की सुरक्षा में सेंध एक सुनियोजित घटना थी, जिसे 6 लोगों ने अंजाम दिया, ये सभी इंस्टाग्राम और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर एक-दूसरे के संपर्क में भी थे। उन्होंने बताया कि आरोपियों ने कुछ दिन पहले योजना बनाई और बुधवार को संसद आने से पहले उन्होंने रेकी की। उन्होंने कहा, ‘उनमें से पांच संसद में आने से पहले गुरुग्राम में विशाल के आवास पर ही रुके थे। योजना के अनुसार, सभी छह लोग संसद के अंदर जाना चाहते थे, लेकिन केवल दो को ही पास मिले।

Read also: शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री पद से ली विदाई, जाते-जाते कहे ये शब्द…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *