Monday , February 26 2024
Breaking News
Home / अन्य / योगी सरकार ने दिवाली में मेले का आयोजन करने का लिया फैसला

योगी सरकार ने दिवाली में मेले का आयोजन करने का लिया फैसला

Today CM Yogi Adityanath will gift 106 projects worth 219 crores to  SantKabir Nagar

न्यूज जंगल डेस्क,कानपुरः देश में कोरोना के खतरे को देखते हुए केंद्र सरकार ने त्‍योहार के इस सीजन में लोगों को ज्‍यादा भीड़ में जाने से बचने की हिदायत दी है. हालांकि इसके उलट उत्‍तर प्रदेश सरकारने राज्‍य के सभी शहरों में सप्‍ताहभर चलने वाले दिवाली मेले आयोजित करने का फैसला किया है. यूपी में होने वाले दिवाली मेलों को लेकर राज्‍य सरकार की ओर से जो जानकारी दी है उसके मुताबिक उत्‍सव में सामानों की बिक्री के साथ योगी सरकार की साढ़े चार साल की उपलब्धियों के बारे में भी लोगों को जानकारी दी जाएगी.

दिवाली उत्‍सव के दौरान मैजिक शो, ड्रामा, कठपुतली नृत्य, फूड स्टॉल, प्रदर्शनी और एलईडी स्क्रीन के जरिए योगी सरकार की ओर से किए गए अब तक के कार्यों को दिखाया जाएगा. यूपी के शहरी विकास मंत्री आशुतोष टंडन ने मंगलवार को मेलों के आयोजन को लेकर समीक्षा बैठक की और निर्देश दिया कि मेलों को ‘मनोरंजन और सांस्कृतिक कार्यक्रमों दोनों के साथ आकर्षक बनाया जाए. बता दें कि इऩ दिवाली मेलों का आयोजन उत्‍तर प्रदेश के हर राज्‍य में 28 अक्टूबर से 4 नवंबर के बीच किया जाएगा.

COVID टास्क फोर्स के प्रमुख वीके पॉल ने कहा था कि त्योहारों के मौसम में लोगों को बहुत जिम्मेदार होने की जरूरत है. इस दौरान भीड़ से बचें, बड़ी सभाओं और बाजार से दूरी बनाकर रखें. वायरस इन चीजों से प्यार करता है. कृपया इन स्थितियों को बनाकर वायरस को खुश न करें और कोरोना प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन करें. अगर हम इसे अगले 100 दिनों तक करते हैं और वायरस का संक्रमण इसी तरह से धीरे-धीरे कम होता जाता है, तो हम कह सकते हैं कि हम बहुत जल्‍द कोरोना की जंग भी जीत सकते हैं. यूपी सरकार ने एक बयान में कहा है कि दिवाली मेला स्‍थानों पर COVID सुरक्षा प्रोटोकॉल का पूरा ध्‍यान रखा जाए. मेलों में आने वाले सभी लोग मास्क पहनकर आयोजन स्थल पर आए और जगह-जगह पर हैंड सैनिटाइजर स्टैंड लगाया जाए. मैदान को भी नियमित रूप से सैनिटाइज किया जाए.

यूपी के शहरी विकास मंत्री आशुतोष टंडन ने कहा कि मेलों में बच्‍चों के लिए आकर्षक सवारी और झूलों की व्‍यवस्‍था की जाए, भोजन के स्टाल लगाए जाएं और लोगों के लिए महान नेताओं के साथ सेल्फी लेने के लिए कॉर्नर बनाया जाए. राज्य सरकार द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि इन दिवाली मेलों से रेहड़ी-पटरी वालों को बिक्री के लिए एक मंच देकर उनकी आय बढ़ाने में मदद की जाएगी. सभी शहरों में खुले मैदानों की पहचान की जा रही है. मेले में पहले तीन दिन सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया जाएगा.

यह भी देखेंःलखीमपुर हिंसाःसुप्रीम कोर्ट में अगली सुनवाई 26 अक्टूबर को होगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *