एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड हैं WhatsApp Chats,फिर भी लीक हो रही है बातचीत, जानें

0

 न्यूज जंगल डेस्क,कानपुर : व्हाट्सएप (WhatsApp) का दावा है कि व्हाट्सएप चैट (WhatsApp chats) एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड हैं (end-to-end encrypted) यानि  सेंडर और रिसीवर के अलावा कोई भी मैसेज नहीं पढ़ सकता, यहां तक कि व्हाट्सएप भी नहीं. तो इतने कड़े नियमों के बावजूद, ऐसा क्यों है कि हर बार जब कोई बॉलीवुड स्कैंडल (Bollywood scandal) होता है, तो इसमें शामिल व्यक्ति की व्हाट्सएप चैट लीक हो जाती है और एक्सेस की जाती है? हाल ही में, बॉलीवुड हस्तियों के व्हाट्सएप चैट लीक होने के कई मामले सामने आए हैं.

2020 में, अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) से संबंधित व्हाट्सएप चैट इंटरनेट पर हर जगह वायरल हो गई. फिर हमने देखा कि एक कथित ड्रग डीलर के साथ बातचीत के बाद दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) एनसीबी (NCB) कार्यालय जा रही थीं. ताजा मामले में बॉलीवुड अभिनेत्री अनन्या पांडे शामिल हैं, जिन्हें एनसीबी ने शाहरुख खान (Shah Rukh Khan) के बेटे आर्यन खान (Aryan Khan) के साथ कथित चैट को लेकर अधिकारियों के सामने बुलाया गया था.

इन सभी घटनाओं से एक सवाल उठता है कि क्या व्हाट्सएप संदेश वास्तव में एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड हैं? और चैट कैसे लीक होते हैं या दूसरों द्वारा एक्सेस किए जाते हैं? हम समझाने की कोशिश करते हैं.

क्या व्हाट्सएप वाकई एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड है?
व्हाट्सएप ने हमेशा यह सुनिश्चित किया है कि उसके सभी संदेश एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड हैं. मैसेज को केवल सेंडर और रिसीवर द्वारा पढ़ा जा सकता है और कोई तीसरा व्यक्ति उन तक पहुंच प्राप्त नहीं कर सकता, यहां तक ​​कि व्हाट्सएप और फेसबुक (Facebook) भी नहीं. व्हाट्सएप का एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन एक सिग्नल प्रोटोकॉल का उपयोग करता है जो तीसरे पक्ष और व्हाट्सएप को संदेशों या कॉल तक पहुंचने से रोकता है.

मीडिया रिपोट्स के मुताबिक व्हाट्सएप में उन मैसेज के कंटेंट को देखने या कॉल को सुनने की कोई क्षमता नहीं है जो एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड हैं. ऐसा इसलिए है क्योंकि व्हाट्सएप पर भेजे और प्राप्त मैसेज का एन्क्रिप्शन और डिक्रिप्शन पूरी तरह से आपके डिवाइस पर होता है. इससे पहले कि कोई मैसेज आपके डिवाइस को छोड़ दे , यह एक क्रिप्टोग्राफ़िक लॉक (cryptographic lock) से सुरक्षित है, और केवल रिसीवर के पास keys हैं. इसके अलावा, keys भेजे जाने वाले प्रत्येक मैसेज के साथ बदलती हैं. हालांकि यह सब पर्दे के पीछे होता है, आप सिक्योरिटी वेरिफिकेशन की जाँच करके पुष्टि कर सकते हैं कि आपकी बातचीत सुरक्षित है आपके डिवाइस पर कोड, “व्हाट्सएप का अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (keys) पेज बताता है.

एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन के बावजूद व्हाट्सएप चैट को कैसे एक्सेस किया जा सकता है?
एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड डाटा में सेंध लगना लगभग असंभव है. तो बड़ा सवाल यह ही है कि व्हाट्सएप चैट कैसे लीक हो जाते हैं? ज्यादातर मामलों में वास्तविकता यह है कि डाटा ब्रेक नहीं किया जाता ब्लकि उसे एक्सेस किया जाता है. यह एक्सेस बस इसके साथ होता है: “अपना फोन अनलॉक करें और मुझे दें.“ भारत में, स्मार्टफोन जैसे पर्सनल डिवाइस की एक्सेस को लेकर कानून धुंधला है. अमेरिका या कई यूरोपीय देशों में, पुलिस को फोन और कंप्यूटर को जब्त करने और खोजने से पहले वारंट की आवश्यकता होती है.

ये कारण भी हो सकते हैं:-

  • फोन को फिजिकली एक्सेस किया जाता है और यूजर को इसे अनलॉक करने के लिए कहा जाता है. एक बार अनलॉक होने के बाद, सभी चैट सुलभ हैं. स्क्रीनशॉट लिए जा सकते हैं, उन्हें कॉपी किया जा सकता है, उन्हें शेयर किया जा सकता है.
  • फोन को भौतिक रूप से एक्सेस किया जाता है लेकिन इसे अनलॉक नहीं किया जाता है. ऐसे में फोरेंसिक टीम अपना कुछ कर सकती है. व्हाट्सएप चैट एन्क्रिप्टेड हैं लेकिन कुछ हफ्ते पहले तक व्हाट्सएप जो चैट बैकअप गूगल ड्राइव या आईक्लाउड पर बना रहा था, वह एन्क्रिप्टेड नहीं था. इन चैट बैकअप को कुछ विशेष उपकरणों का उपयोग करके एक्सेस किया जा सकता है.
  • उदाहरण के लिए, एक बार किसी के पास फोन होने पर, उसके डेटा को कंप्यूटर पर क्लोन किया जा सकता है और फिर फोरेंसिक टूल का उपयोग करके उस तक पहुंचा जा सकता है.
  • साथ ही, कानून प्रवर्तन एजेंसियों  (law enforcement agencies) के पास एक वैध न्यायालय आदेश के साथ Google और Apple से संपर्क करने और उनसे व्हाट्सएप चैट बैकअप (हाल तक अनएन्क्रिप्टेड) ​​प्राप्त करने का विकल्प उपलब्ध है. इन बैकअप को तब फोरेंसिक लैब में अलग किया जा सकता था.
  • अब भी जब चैट बैकअप को एन्क्रिप्ट किया जा सकता है, तो ऑप्शन को यूजर द्वारा सक्षम करना होगा. इसलिए, जब तक आप व्हाट्सएप को स्पष्ट रूप से अपने चैट बैकअप को एन्क्रिप्ट करने के लिए नहीं कहते हैं, तब तक वे अनएन्क्रिप्टेड रूप में रहे

क्या व्हाट्सएप कानून प्रवर्तन अधिकारियों के साथ डाटा साझा कर सकता है?
कानून प्रवर्तन अधिकारी आपातकालीन स्थितियों में यूजर के खाते के रिकॉर्ड को साझा करने के लिए व्हाट्सएप से संपर्क कर सकते हैं. किसी भी खाते की स्टोर कंटेट की “के बारे में” जानकारी में प्रोफ़ाइल फ़ोटो, समूह जानकारी और एड्रेस बुक, यदि उपलब्ध हो, शामिल हो सकते हैं. एक बार अनुरोध किए जाने के बाद, व्हाट्सएप लागू कानून और नीति के आधार पर कानून प्रवर्तन अनुरोधों की सावधानीपूर्वक समीक्षा करता है, मान्य करता है और उनका जवाब देता है.

ये भी पढ़े : श्रीनगर में शहीद इंस्पेक्टर की पत्नी को अमित शाह ने दी सरकारी नौकरी, परिवार से मिले

हालांकि, व्हाट्सएप के एफएक्यू पेज में कहीं भी यह नहीं कहा गया है कि मैसेजिंग ऐप कानून प्रवर्तन अधिकारियों के साथ मैसेज कंटेट शेयर करता है. ऐसा इसलिए है क्योंकि व्हाट्सएप मैसेज को डिलीवर करने के बाद या ऐसे डिलीवर किए गए मैसेज के लेनदेन लॉग को संग्रहीत नहीं करता है. 30 दिनों के बाद बिना डिलीवर किए गए संदेशों को व्हाट्सएप सर्वर से हटा दिया जाता है. एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन, जो डिफ़ॉल्ट रूप से सक्रिय होता है, व्हाट्सएप को अपने यूजर्स की चैट तक पहुंचने की अनुमति नहीं देता है.

About The Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *