विश्वविद्यालय में दो दिवसीय दीपावली मेला संवर्तिका का किया गया आयोजन

0

न्यूज जगंल डेस्क: कानपुर छत्रपति शाहूजी महाराज विश्वविद्यालय में शुक्रवार को दो दिवसीय दीपावली मेला संवर्तिका का आयोजन किया गया। मेले में मुख्य अतिथि के तौर पर सांसद सत्यदेव पचौरी, विशिष्ट अतिथि जिलाधिकारी विशाख जी, कुलपति प्रो विनय कुमार पाठक और वंदना पाठक ने दीप प्रज्ज्वलन कर किया। मेले के स्टाल में जूट से बने गणपति और कलश आकर्षण का केंद्र रहे। स्टाल में सारा सामान नारियल से निकलने वाले वेस्ट मैटेरियल से बनाया गया है। जूट की चप्पलें शुगर के रोगियों के लिए लाभदायक हैं। बोर्ड की ओर से लगे स्टाल में नारियल की खाद को भी लगाया गया। पांच किलो की बोरी की कीमत 200 रुपए रखी गयी। कुलपति प्रो पाठक ने बताया कि विश्वविद्यालय के छात्र छात्राएं प्रतिभा और रचनात्मक कला का सागर हैं।

स्टाल लगाकर औषधीय पौधों की बताई गई गुणवत्ता

इनोवेशन एंड इन्क्यूबेशन सेल के माइक्रोबायोलॉजी आईबीएसबीटी के स्टूडेंट्स ने लैब में तैयार किये गए जैविक फ़र्टिलाइज़र के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इससे खाद मिट्टी को और मुलायम करते हुए पौधों को एयर पोलूशन से भी बचाएंगे। लीगल स्टडीज के छात्रों ने बाल श्रम जागरूकता हेतु लघु नाट्य प्रस्तुत किया। धनवंतरी की और से औषधीय पौधों की विशेषता बताते हुए तुलसी , अजवाइन , आंवला ,की गुणवत्ता के बारे में अवगत कराया। इसके अलावा हलीम मुस्लिम पीजी कॉलेज के स्टूडेंट्स ने भी स्टॉल लगाया।

वेस्ट मटेरियल से बनाया सजावटी सामान

फाइन आर्ट के छात्र छात्राओं ने वेस्ट मटेरियल से सजावटी सामान बनाकर मेले में आने वालों को अपनी ओर आकर्षित किया। इस विभाग के स्टाइल में दीयाली स्टैंड, गुजरिया, ग्लास पेंटिंग, पेपर लैम्प, चम्मच, सिक्कों का गुलदस्ता, कैनवास पेंटिंग और हैंगिंग लैंप आदि लगाए गए। छात्रा हर्षिता शर्मा ने पत्थरों में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उद्यमी रतन टाटा समेत कई राजनेताओं और महापुरुषों को सजाया।

चटपटे स्टाल में लगे चटकारे

मेले में होटल मैनेजमेंट छात्रों ने फ्लेवर्ड मिल्क , कोकोनट सांगरी ,अवधा का नवाबी शाही टिक्का , क्विक सेंडबिच , महाराष्ट्र का कांजीवारा , पापड़ी, चाट और भेलपुरी आदि से लोगों चटकारे लगाये। यहां स्टूडेंट्स की भीड़ लगी रही है। वही कानपुर विद्या मंदिर की छात्राओं ने सौरा आर्ट , रेशम ज्वैलरी, क्ले ज्वेलरी, वूल लैम्प्स और जेल कैंडल्स आदि सामानों को लगाया।

ये भी देखे: सड़क और पुल न होने से कुंवारे है इस गांव के युवा, आज तक नहीं पहुंचे नेता-अफसर

आकर्षण का केंद्र रहे गोबर के गणेश लक्ष्मी

कानपुर गौशाला सोसायटी के स्टाल में गोबर से बने गणेश लक्ष्मी लोगों के बीच आकषर्ण का केंद्र रहे। इसके अलावा गोबर से बनी हवन सामग्री, गोमय समिधा, नीम का तेल, गोबर का गमला, बर्तन साफ करने के लिए पाउडर और दीया आदि आकर्षण का केंद्र रहा।

About The Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *