ब्रिटेन में डरा रहे कोरोना के नए मामले,क्या यह है नई लहर के संकेत ?

न्यूज जंगल डेस्क,कानपुरः  भले ही बीते 24 घंटे में कोरोना के 16,326 नए मामले ही सामने आए हैं लेकिन महामारी से मृत्‍युदर 1.2 फीसद पर बनी हुई है जो परेशान करने वाली है। यही नहीं दुनिया के कई मुल्‍कों में महामारी की नई लहर परेशान कर रही है। ब्रिटेन में वायरस में हुआ बदलाव डरा रहा है और रोज 40 हजार से ज्‍यादा केस सामने आ रहे हैं तो वहीं रूस में आए दिन लगभग एक हजार लोगों की मौत हो रही है। आइए जानें कोरोना महामारी की नई लहर को लेकर क्‍या कहते हैं।

भारतीय विशेषज्ञों का कहना है कि भले ही दुनिया के कई मुल्‍क कोरोना की नई लहर का सामना क्‍यों न कर रहे हों लेकिन भारत में हाल फिलहाल में कोरोना की नई लहर के नजर आने की संभावना नहीं है जब तक कि कोरोना का कोई नया प्रतिरक्षा वैरिएंट न आए। विशेषज्ञों की मानें तो यह कहना अभी जल्‍दबाजी होगी कि देश महामारी अब खत्‍म होने की ओर है।

विशेषज्ञों का मानना है कि देश में कोरोना के मामलों में भले ही कमी क्‍यों न देखी जा रही हो ब्रिटेन और दुनिया के बाकी हिस्‍सों में महामारी के मामलों में बढ़ोतरी को देखते हुए देश में एक बड़े टीकाकरण कवरेज की जरूरत है। वायरोलॉजिस्ट शाहिद जमील कहते हैं कि टीकाकरण में हमने 100 करोड़ डोज लगाकर एक बड़ी उपलब्धि हासिल की है लेकिन अभी और आगे जाने की आवश्यकता है।

हरियाणा में अशोका विश्वविद्यालय के असिस्‍टेंट प्रोफेसर शाहि‍द जमील ने समाचार एजेंसी पीटीआइ से कहा कि भले ही मामलों में लगातार कमी आ रही है लेकिन देश में महामारी से होने वाली मृत्यु दर लगभग 1.2 फीसद पर बनी है। यह इस बाकी की ओर इशारा कर रही है कि देश में टीकाकरण कवरेज को अभी भी बढ़ाने की जरूरत है।

यूके के मिडलसेक्स विश्वविद्यालय में गणित के वरिष्ठ व्याख्याता मुराद बनजी जो भारत के कोविड ग्राफ को करीब से देख रहे हैं और जिन्‍होंने महामारी पर कई माडलों का अध्ययन किया है… वह कहते हैं कि कुछ समय के लिए कम मामलों का मतलब यह नहीं लगाया जाना चाहिए कि महामारी खत्‍म होने की ओर है।

यह भी देखेंःपाकिस्तान के लाहौर में इंटरनेट सेवाएं हुई बंद,जानें वजह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *