गरीबी के चंगुल में फंसने के बाद मुल्ला उमर का बेटा निवेश मांगने को मंजबूर

0

न्यूज जंगल डेस्क। कानपुर। तालिबान के संस्थापक मुल्ला उमर के बेटे मोहम्मद याकूब पहली बार सावर्जनिक रूप से आमने आए हैं। कट्टरपंथी तालिबान यह सब करके अपनी छवि चमकाने में जुटा हुआ है। एक टीवी कार्यक्रम में अफगानिस्तान के नए रक्षा मंत्री मोहम्मद याकूब ने स्थानीय व्यापारियों से हॉस्पिटल में निवेश करने की अपील की है।

तालिबान के पहले शासन काल में आंदोलन के सर्वोच्च नेता याकूब के पिता मुल्ला उमर शायद ही कभी सावर्जनिक रूप से दिखाए दिए। उनकी तस्वीरों तक पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। 2013 में उनकी मौत के दो साल तक इस खबर को सावर्जनिक नहीं किया गया था। लेकिन अगस्त 2021 में काबुल पर कब्जा करने के बाद से तालिबान नेता सामान्य तौर पर सावर्जनिक रूप से दिख रहे हैं।

मोहम्मद याकूब ने काबुल के सरदार मोहम्मद दाउद खान मिलिट्री हॉस्पिटल में कहा है कि हॉस्पिटल पर खर्च किया जाना चाहिए। उन्होंने व्यवसायियों के साथ ही डॉक्टर्स से मेडिकल सेक्टर में निवेश करने की अपील की है।

ये भी देखें – कोरोना महामारी के डेढ़ साल में दुनिया ने अभी भी नहीं लिया सबक

बता दें कि सालों से जारी युद्ध के कारण अफगानिस्तान बिखरा हुआ है। तालिबान कि वापसी के बाद से अफगानिस्तान की इकॉनमी का बुरा हाल है। अफगानिस्तान कई अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबंधों का सामना कर रहा है। लाखों पीड़ित लोगों को इलाज की जरूरत है।

About The Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *