सांसद बृजलाल बसपा में सेंधमारी में सफल होते दिख रहे

न्यूज जंगल डेस्क: कानपुर महीने भर के भीतर दो दिन के प्रवास पर कानपुर आए सांसद बृजलाल बसपा में सेंधमारी में सफल होते दिख रहे हैं। पहले दिन ताबड़तोड़ बैठकों के बाद देर शाम वह अपने मिशन को पूरा करने में लगे रहे। देर शाम तक सर्किट हाउस में उनसे मिलने कई बसपा नेता पहुंचे। बसपाइयों के साथ प्रीतिभोज का सिलसिला जारी है। मिलने गए बसपा नेताओ के साथ उनकी देर तक मंत्रणा चलती रही। माना जा रहा है बहुत जल्द शहर बसपा के कई बड़े दिग्गज नेता भाजपा का दामन थाम सकते है। सूत्रों की मानें तो पहले दौर की वार्ता सफल बताई जा रही है। कुल मिलाकर भाजपा का आपरेशन बसपा बहुत जल्द राजनीतिक मंच पर दिखाई देने वाला है।

विश्वासपात्र बसपा नेता को किया है सक्रिय
पिछले दिनों शहर आने पर सांसद बृजलाल ने अपने विश्वासपात्र बसपा नेता को सेंधमारी के लिए लगाया था। यह बसपा नेता शहर के कई बसपाइयों के साथ सांसद से मिलने लखनऊ भी गए थे। शुक्रवार की शाम हुई बैठक में इन बसपाइयों के भाजपा में जाने की रूपरेखा लगभग तय हो गई। इस पर मुहर भाजपा के प्रदेश कार्यालय से लगाई जाएगी। चुनावी माहौल में बसपाइयों को भाजपाई बना कर पार्टी एक संदेश भी देना चाह रही है।

ये भी देखे: 29 नवम्बर से शुरू हो सकता है संसद का शीतकालीन सत्र, जाने क्या है खास

प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव आ सकते हैं दलित बस्ती
बसपाइयों ने भाजपाई होने के लिए कुछ शर्तें रखी हैं। जिसमें से कुछ को शहर और कुछ को प्रदेश में समायोजित करने की बात कही गई है। साथ ही पार्टी की जॉइनिंग के लिए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह का कार्यक्रम निश्चित किया जा रहा है। इसके लिए शहर की किसी दलित बस्ती में उनका कार्यक्रम आयोजित किए जाने की रूपरेखा तैयार की जा रही है।

BSP में सेंधमारी कर तीन सीट जीतने की फिराक में भाजपा
भले ही शहर की तीन विधानसभा को जीतने के लिए सांसद बृजलाल को लगाया गया हो। लेकिन, भाजपा शहर की सभी सीटों पर एससी/एसटी वोट साधने में जुट गई है। इसीलिए बृजलाल ने शहर की सभी विधानसभा के बसपाईयों से मिलने का सिलसिला जारी रखा है। फिलहाल आर्यनगर, सीसामऊ और कैंट में बृजलाल को प्रभारी बनाया गया है। ऐसा माना जा रहा कि यदि इन तीनों विधानसभा में बसपा कैडर का कुछ वोट भाजपा में डायवर्ट हो गया तो भाजपा की राह काफी आसान हो जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *