553वें पावन प्रकाशोत्सव के तीसरे दिन मोतीझील में लंगर का होगा आयोजन

न्यूज जगंल डेस्क: कानपुर गुरु नानक देव जी महाराज के 553वें पावन प्रकाशोत्सव के तीसरे दिन मोतीझील में लंगर का आयोजन होगा। 2 लाख लोगों के लिए लंगर सेवा सुबह 11.30 बजे शुरू की जाएगी। वहीं गुरुवार को सैकड़ों की संख्या में लोगों ने लंगर बनाकर सेवा की। मोती झील के पंडाल में गुरू ग्रंथ साहिब के समक्ष नतमस्तक होकर सभी अपनी श्रद्धा अर्पित कर रहे थे।

24 घंटे से बन रहीं रोटियां

गुरु सिंह सभा के सेवादार मनजीत सिंह चौधरी ने बताया लंगर में 100 बोरी आलू, 6000 बोरी गोभी, 253 टीना देसी घी, 200 बोरी आटा 40 बोरी दाल, 25 टन अचार और 2200 किलो देसी घी से बना हलवा तैयार किया गया है। 24 घंटे पहले से लंगर को लेकर सब्जी काटने के लिए सेवादार लग गए थे। शहर के कोने-कोने से लोग लंगर में सेवा देने के लिए पूरे दिन जुटे रहे।

सुबह से शुरू हुआ कीर्तन

शुक्रवार सुबह से ही महान गुरू के प्रति अपनी श्रद्धा अर्पित करने के लिए गुरुद्वारा श्री गुरू तेग बहादुर चौक के हजूरी रागी नरिंद्र सिंह ने ” जाहर पीर जगत गुरू बाबा” का अपनी मधुर वाणी में कीर्तन किया। कुलदीप सिंह राजा व भूपिन्दर सिंह गुरदास पुरी ने “आसा दी वार ” का कीर्तन किया।

नारों से हो गया गुंजायमान

पंथ के कीर्तन गायक श्री दरबार साहिब अमृतसर के हजूरी रागी सुरिंदर सिंह ज्वद्दी कलां वालों ने अपनी शैली में “नानक आया नानक आया कल तारण गुरू नानक आया ” का गायन करते ही पंडाल ” बोले सो निहाल, सत श्री अकाल ” से गुंजायमान हो गया।

ये भी देखे: मोदी सरकार का यू टर्न: तीनों कृषि कानून वापस

एक संगत एक पंगत पर छकेंगे लंगरगुरू सिंह सभा के प्रधान स. हरविन्दर सिंह लार्ड ने बताया कि कीर्तन व कथा के दिवान के साथ ही गुरू का अटूट लंगर शुरू होगा। “एक संगत एक पंगत” के अनुरूप लाखों लोग लंगर छकेंगे। वहीं, शहर के गणमान्य लोग भी लंगर में आएंगे और अपनी सेवाएं देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *