किसान रेल रोको आंदोलन: हरियाणा, बिहार और कर्नाटक में रेल पटरियों पर बैठे किसान

न्यूज जगंल डेस्क, कानपुर : तीन कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन में संयुक्त किसान मोर्चा ने आज देशभर में रेल रोको आंदोलन का आह्वान किया है. इसके तहत आज देशभर में सुबह 10 से शाम 4 बजे तक रेल-पटरियों पर धरना प्रदर्शन कर ट्रेन रोकी जाएंगी. हालांकि किसान संगठनो ने आज के रेल रोको आंदोलन के लिए पहले से ऐलान कर रखा है लेकिन रविवार को रोहतक में किसान नेता गुरमान सिंह चढूनी ने कहा कि सभी किसान भाई स्टेशनों के पास जाकर ट्रेनें रोकेंगे.

पंजाब, हरियाणा में रेल पटरियों पर बैठे प्रदर्शनकारी, यात्री परेशान

राष्ट्रव्यापी ‘रेल रोको’ विरोध-प्रदर्शन के आह्वान पर, पंजाब और हरियाणा में किसानों द्वारा रेल पटरियों को अवरुद्ध कर दिया गया, जिससे रेल सेवाएं प्रभावित हुईं हैं. विरोध के कारण दोनों राज्यों में ट्रेन सेवाएं प्रभावित हुईं. हालांकि, राज्यों में कहीं से भी किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं है.

उन्होंने कहा कि तीनों कृषि कानूनों को रद्द कराने, एमएसपी पर फसलों की खरीद की गारंटी का कानून बनवाने और लखीमपुर खीरी हत्याकांड में गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा की गिरफ्तारी की मांग को लेकर रेल रोको आंदोलन बुलाया जा रहा है. इसको सफल बनाने के लिए सभी जगहों पर किसान आगे आएं.

राकेश टिकैत का बयान

किसान संगठनों के रेल रोको आंदोलन पर राकेश टिकैत ने कहा, ‘ये अलग-अलग ज़िलों में अलग-अलग जगह होगा. पूरे देश में वहां के लोगों को पता रहता है ​कि हमें कहां ट्रेन रोकनी है. भारत सरकार ने अभी हमसे कोई बात नहीं की है.’

रेल रोको आंदोलन के मद्देनजर रेलवे अलर्ट पर
आंदोलन के चलते रेल यात्रियों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है. खासकर, नॉर्दर्न रेलवे के इलाकों में इसका खासा असर देखने को मिल सकता है, जहां शुरू से किसान आंदोलन के चलते रेल यातायात पर काफी असर पड़ता रहा है. इसी के मद्देनजर रेलवे ने तैयारियां तेज कर दी हैं.

ये भी पढ़े : केरल में भारी बारिश व लैंडस्लाइड अब तक 31 की मौत, राहत-बचाव कार्य जारी

रेलवे सूत्रों के मुताबिक, रेल संपत्ति को नुकसान से बचाने के लिए आरपीएफ को भी अभी से अलर्ट पर रहने के लिए कह दिया गया है. जहां-जहां किसानों के रेल रोकने की संभावना है या जहां पहले भी रेल रोकी गई है, उन जगहों पर एक्स्ट्रा फोर्स तैनात की जाएगी. साथ ही, यात्रियों को भी अलर्ट किया जाएगा. मालगाड़ियों के परिचालन पर भी इसका असर देखने को मिल सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *