कानपुर की अंडरग्राउंड मेट्रो जमीन के 21 मीटर नीचे चलेगी

न्यूज जगंल डेस्क: कानपुर कानपुर में मेट्रो के पहले कॉरिडोर का काम लगभग खत्म करने की कगार पर है, वहीं अब मेट्रो अंडरग्राउंड मेट्रो स्टेशन के निर्माण की ओर बढ़ गई है। यहां मेट्रो 21 मीटर नीचे चलेगी। सोमवार यानी आज से नवीन मार्केट अंडरग्राउंड मेट्रो स्टेशन के काम का शुभारंभ हो गया। यूपी मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (यूपीएमआरसी) के एमडी कुमार केशव ने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच पूजा अर्चना की। इसके बाद इंजीनियर्स ने काम शुरू कर दिया है।

दिसंबर से शुरू होगा टनल का निर्माण
अभी चुन्नीगंज से नयागंज तक चार अंडरग्राउंड मेट्रो स्टेशनों और टनल का निर्माण होगा। दिसंबर में टनल बनाने वाली टनल बोरिंग मशीन भी कानपुर आ जाएगी। अभी इस मशीन को जमीन के अंदर ले जाने के रास्ते को बनाया जाएगा। मालूम हो कि अंडरग्राउंड मेट्रो कॉरिडोर तैयार करने का ठेका गुलेरमॉक कंपनी को मिला है।

टॉपडाउन सिस्टम से बनेंगे स्टेशन
कानपुर मेट्रो के अंडरग्राउंड स्टेशनों का निर्माण टॉप डाउन सिस्टम के तहत होगा। अंडरग्राउंड स्टेशनों का कंस्ट्रक्शन ऊपर से नीचे की ओर होगा। इससे ट्रैफिक भी कम प्रभावित होगा। रोड लेवल से शुरू होते ही फर्स्ट फ्लोर उसके बाद जैसे-जैसे काम नीचे पहुंचता जाएगा वैसे वैसे सड़क पर लगी बैरिकेडिंग भी कम होती जाएगी। इससे सड़क के नीचे स्टेशन बनता रहेगा और ऊपर ट्रैफिक भी चलता रहेगा।

पैनल बनाने का काम शुरू
अंडरग्राउंड मेट्रो स्टेशन और टनल के लिए पैनल बनाने का काम मकड़ीखेड़ा में बनाए गए कास्टिंग यार्ड में सोमवार से ही शुरू हो जाएगा। इन्हें अंडरग्राउंड मेट्रो के कंस्ट्रक्शन के दौरान टनल और मेट्रो स्टेशनों में लगाया जाएगा। सोमवार से नवीन मार्केट मेट्रो स्टेशन की दीवार बनाने से काम की शुरुआत हो गई है।

21 मीटर नीचे चलेगी मेट्रो
कानपुर की अंडरग्राउंड मेट्रो ट्रेन जमीन के 21 मीटर नीचे चलेगी। टनल बनाने के पहले मेट्रो स्टेशनों के लिए डी वॉल, जो कि स्टेशन की बाउंड्री होती है, बनाने का काम किया जाएगा। स्टेशन के चारों ओर इस डी वॉल के घेरे के अंदर ही पूरा स्टेशन होगा। इसके लिए छोटे-छोटे सीमेंटेड पैनल के साथ डी वॉल को तैयार किया जाएगा। हर पैनल की लंबाई 5 मीटर और चौड़ाई 800 एमएम होगी।

एक डी वॉल में 100 पैनल लगेंगे
एक स्टेशन की डी वॉल तैयार करने में 100 पैनल लगाए जाएंगे जो कि जमीन के 21 मीटर तक की गहराई में जाएंगे। वहीं कास्टिंग यार्ड में टनल की रिंग के लिए पैनल भी बनेंगे। हर पैनल के छह हिस्सों को मिलाकर टनल की पूरी रिंग तैयार होगी। जिसका व्यास 6 मीटर के लगभग होगा।

ये भी देखे: डेंगू और वायरल फीवर से मैनपुरी में मचा कोहराम, रोकथाम के लिए कोई ठोस कदम नही

सेकेंड प्रायॉरिटी कॉरिडोर में अंडरग्राउंड स्टेशन
चुन्नीगंज, नवीन मार्केट, बड़ा चौराहा, नयागंज, कानपुर सेंट्रल स्टेशन, झकरकटी बस अड्डा और ट्रांसपोर्ट नगर।

4 अंडरग्राउंड स्टेशनों की लंबाई और चौड़ाई
चुन्नीगंज, नवीन मार्केट, बड़ा चौराहा- 215 मीटर लंबाई व 23 मीटर चौड़ाई।
नयागंज- 225 मीटर लंबाई व 22.3 मीटर चौड़ाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *