नगर निगम के विकास कार्यों पर भी पड़ने लगी महंगाई की मार

0

न्यूज जगंल डेस्क: कानपुर कानपुर नगर निगम के विकास कार्यों पर भी महंगाई की मार पड़ने लगी है। तारकोल के रेट में 30 परसेंट तक की बढ़ोतरी हो गई है। इससे पैचवर्क के कार्य बाधित होने लगे हैं। बुधवार को नगर निगम में 7 करोड़ रुपए के 85 सड़कों के पैचवर्क के लिए टेंडर डाले जाने थे। इनमें 23 कार्यों के लिए एक भी ठेकेदार ने टेंडर नहीं डाले।

PWD के नियम फॉलो करने की मांग
ठेकेदार संजय अग्निहोत्री, टिल्लू ठाकुर, संदीप शाहू ने बताया कि PWD में जिस तरह तारकोल समेत अन्य निर्माण सामग्री के रेट रिवाइज होते रहते हैं। उसी तरह नगर निगम में रेट रिवाइज किए जाने चाहिए। नगर निगम ने वर्ष-2019 में तारकोल के रेट में बढ़ोतरी की थी। इसके बाद से अब तक 30 परसेंट रेट बढ़ चुका है।

15 परसेंट तक बिलो टेंडर
नगर निगम निधि से शहर की खोदी या टूटी पड़ी सड़कों का पैचवर्क और इंटरलाकिंग टाइल्स कराने का कार्य किया जा रहा है। इसके तहत 85 सड़कों का पैचवर्क और टाइल्स लगाने का कार्य करीब 7 करोड़ रुपए से होना है। तारकोल के रेट 3835 रुपए प्रति मीट्रिक टन रखा गया है, जो अब 5218 प्रति मीट्रिक टन हो गया है। 30 परसेंट रेट बढ़ने और प्रतिस्पर्धा के चलते 10 से 15 परसेंट तक तय इस्टीमेट से कम पर टेंडर पड़ने के चलते ठेकेदार पीछे हट गए हैं।

ये भी देखे: टिम पेन नहीं हुए फिट तो पैट कमिंस कप्तानी के लिये तैयार

नगर आयुक्त के सामने रखा जाएगा मामला
मामले में नगर निगम चीफ इंजीनियर एसके सिंह ने बताया कि 85 कार्यों में सिर्फ 62 में ही टेंडर फार्म पड़े हैं। अगले हफ्ते बचे कामों के टेंडर लगाए जाएंगे। नहीं आने पर बढ़े दामों के हिसाब से इस्टीमेट बनाए जाने का प्रस्ताव नगर आयुक्त के सामने रखा जाएगा। इसके अलावा सड़कों के न बनने से राहगीरों को मुश्किल तो होगी ही, डस्ट पॉल्यूशन भी तेजी से बढ़ेगा।

30 नवंबर तक डेडलाइन
बीते दिनों अपर सचिव के निर्देश पर नगर निगम को 86 सड़कों पर 95 किमी. तक पैचवर्क करने के निर्देश दिए गए थे। इसमें कैबिनेट मंत्री सतीश महाना के महाराजपुर विधानसभा में सबसे ज्यादा 30 सड़कें शामिल हैं। इसके लिए 30 नवंबर तक डेडलाइन तय की गई है। अब ठेकेदारों के टेंडर न डालने से तय डेडलाइन में काम होना मुश्किल होगा।

इन प्रमुख सड़कों के लिए टेंडर

  • रतनलाल नगर से गुरुद्वारा रोड का पैचवर्क : 3.55 लाख
  • बसंत गैराज से कालपी रोड होते हुए नवजीवन पार्क तक : 8.37 लाख
  • ई-ब्लॉक गुजैनी से एमआईजी-48 ब्लॉक तक : 6.92 लाख
  • एसबीआई चौराहा होते हुए बीएससी अस्पताल तक : 9.95 लाख।

About The Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *