Friday , March 1 2024
Breaking News
Home / अन्य / हैलट के डाॅक्टर बने भगवान,क्षत-विक्षत चेहरे को फिर से दी पहचान

हैलट के डाॅक्टर बने भगवान,क्षत-विक्षत चेहरे को फिर से दी पहचान

जगदीप अवस्थी की रिपोर्ट,कानपुरः हैलट के जूनियर डाॅक्टरों ने रविवार को कर्तव्यनिष्ठा की जीती जाती मिसाल पेश की हादसे में एक बच्ची अपना पूरा चेहरा खो चुकी थी। किसी को नही लग रहा था कि वह दोबारा बोलेगी भी पर धरती के भगवान आगे आए 2 घंटे की मेहनत रंग लाई। आपको बता दे पूरा मामला उन्नाव निवासी 10 वर्षीय खुशबू अपने पिता तेज सिंह और मां गायत्री के साथ बाइक से घर जा रही थी पिता ने अचानक ब्रेक लगाया तो तीनो सड़क पर गिरकर ट्रक की चपेट में आ गये तेज सिंह की मौके पर मौत हो गई। मां भी गंभीर रूप से घायल हो गई और बच्चे का का पूरा चेहरा खूल गया इस हालत में इमरजेंसी लाइट सर्जरी विभाग के जूनियर डाॅक्टर काजी, नेत्र विभाग के डाॅक्टर कल्याण और सर्जरी विभाग के डाॅक्टर सृजन त्रिपाठी ने मिलकर बच्ची को गोद में ले लिया और चेहरे की कंस्ट्रक्टिव सर्जरी कर दी चेहरे पर टांके लगाकर ब्लडिंग राॅकी और क्षतिग्रस्त मांस पेशियों को सही किया।

डाॅक्टर सृजन त्रिपाठी का कहना है कि बच्ची की हल्की सांस चल रही थी लेकिन उसकी जान बचाने के लिए कुछ तो करना ही था ,हमने प्रयास किया और हमारा प्रयास सफल कामायाब रहा कि बच्ची के चेहरे की पूरी हड्डिया टूटी हैं ,उसके सीने में भी चोट आई है और पैर में भी फ्रैक्चर है।आगे के इलाज के लिए ट्रामा सेंटर लखनऊ भेजा गया है उसके चेहरे का दोबारा ऑपरेशन किया जा सकता है।इंटेंसिव केयर की जरूरत पड़ेगी प्रमुख अधिक्षक प्रोफेसर आरके मौर्या ने कहा कि छात्रों ने अद्धभुत काम किया है इसी तरह की तत्परता से मरीजों को कुछ हद तक मैनेज किया जा सकता है।

यह भी देखेंःकरीब एक महीने से हैलट में दवाओं की किल्लत जारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *