कुरसौली गांव में डेंगू का कहर दिखा रहा एक बार फिर तीखे तेवर

न्यूज जगंल डेस्क: कानपुर शहर के कल्याणपुर ब्लॉक के कुरसौली गांव में डेंगू का कहर एक बार फिर तीखे तेवर दिखा रहा है। जानकारी के मुताबिक मंगलवार देर रात तक यहां तीन मौतें हो चुकी है। कुरसौली में एक 14 वर्षीय किशोरी और पड़ोस के गांव मकसूदाबाद में एक 17 वर्षीय किशोरी की डेंगू से मौत हो गई। इनके अलावा दोपहर को 48 वर्षीय महिला पूनम ने भी बुखार से दम तोड़ दिया। तीनों मरीजों का इलाज सरकारी अस्पताल हैलट में चल रहा थाम लेकिन हैलट प्रशासन ने यह कहा है कि तीनों मौतों बुखार से हुई है, जबकि इनकी तीनों की रिपोर्ट पहले पॉजिटिव आयी थी।

यहां जब तक अधिकारी आए तब तक कैंप लगा…
अब तक इस गांव में 22 से ज्यादा मौतें हो चुकी है लेकिन फिर भी प्रशासन हो या शासन कोई इस गांव पर ध्यान नहीं दे रहे है। यहाँ के रहने वाले राम पाल से जब बात की तो उन्होंने बताया, यहाँ जब एक साथ चार आरतियां उठी थी तब प्रशासन जगा था, दो चार दिन फॉगिंग करवाने के के बाद कोई यहां झांकने नहीं आया।

अब योगी बाबा को वोट नहीं देंगे…
कुरसौली के रहने वाले सदानंद कोरी बोले, अब नहीं देंगे योगी बाबा को वोट, उनको पिछली बार इस लिए वोट दिया था की वो कुछ हमारे जैसे लोगों का भला करेंगे लेकिन उन्होंने तो अपने विधायक नहीं भेजे। यहाँ वो लोग सिर्फ वोट मांगने आते है, इससे अच्छा तो अखिलेश था।

मंगलवार को हुई है तीन मौतें…
आपको बता दें कि कुरसौली गांव मंगलवार को तीन मौतें हुई। जिसमे रमजानी की 14 वर्षीय पुत्री सबीना को डेंगू हुआ था, उसे उर्सला में भर्ती कराया गया था, लेकिन बाद में उसे हैलट रेफेर कर दिया, जहां उसके शरीर में खून की कमी बताई और कुछ देर में उसकी मौत हो गई। वहां खून की दो तीन उल्टी भी हुई। इसके पहले परिवार वालों ने अस्पताल के कहने पर पांच यूनिट प्लेटलेट चढ़ाए थे। फिर भी बच्ची की जान नहीं बचाई जा सकी। गांव मकसूदाबाद में एक 17 वर्षीय किशोरी की डेंगू से मौत हो गई, उसको भी यही दिक्कत थी लेकिन जगह न होने की वजह से हालत में उसका उपचार स्ट्र्राचेर पर किया जा रहा था। मंगलवार दोपहर 48 वर्षीय महिला पूनम ने भी बुखार से दम तोड़ दिया। तीनों मरीजों का इलाज सरकारी अस्पताल हैलट में चल रहा थाम लेकिन हैलट प्रशासन ने यह कहा है कि तीनों मौतों बुखार से हुई है, जबकि इनकी तीनों की रिपोर्ट पहले पॉजिटिव आयी थी। जैसा उनके परिवार वालों का कहना है।

ये भी देखे: ड्रग्स केस में Aryan Khan की जांच कर रहे NCBअधिकारी ने लगाया जासूसी का आरोप

किसी को कोई खबर नहीं…
तीन मौतें होने के बाद भी जब मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ संजय काला से बात की तो उन्होंने बताया, ऐसी किसी भी घटना की जानकारी नहीं है, और अगर डेंगू होता तो हमारे पास रिपोर्ट होती। जब इस बारे में सीएमओ नेपाल सिंह से बात की तो उन्होंने कहा डेंगू कानपुर अब खत्म हो चूका है। अब मेरे को डिस्टर्ब न करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *