बांग्लादेश: कट्‌टरपंथियों ने हिंदुओं को दुर्गा पूजा करने से रोका, सरकार ने दी चेतावनी

बांग्लादेश में दुर्गा पूजा (FILE PHOTO)

न्यूज जगंल डेस्क, कानपुर : बांग्लादेश (Bangladesh) में बुधवार को दुर्गा पूजा (Vandalise Durga Puja pandals) पंडालों में तोड़फोड़ की कई घटनाएं सामने आईं हैं. जिसके बाद शेख हसीना सरकार ने कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी है. स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, हमले ज्यादातर कमिला (जिसे कोमिला के नाम से भी जाना जाता है) जिले में हुए हैं.

बांग्लादेश मीडिया के मुताबिक, सोशल मीडिया पर कुछ पोस्ट में कथित तौर पर आरोप लगाया गया कि एक पूजा स्थल पर कुरान का अपमान किया गया है, जिसके बाद हिंसा शुरू हुई थी.

रिपोर्ट में कहा गया है कि चांदपुर के हाजीगंज, चट्टोग्राम के बंशखली, चपैनवाबगंज के शिबगंज और कॉक्स बाजार के पेकुआ में हुई हिंसा में मंदिरों पर भी हमला किया गया. कुछ इलाकों में दुर्गा की मूर्तियों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया था.

हिंसा की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं. मीडिया के मुताबिक, चांदपुर के स्थानीय अस्पताल तीन लोगों के शव पहुंचे हैं, इनकी मौत हिंसा में हुई मानी जा रही है. हालांकि पुलिस ने अभी तक पुष्टि नहीं की है.

बांग्लादेश के अधिकारियों ने घटनाओं को गंभीरता से लिया है. उन इलाकों में अर्धसैनिक बलों को तैनात किया है, जहां हिंसा हुई थी. देश के गृह मंत्री ने अधिकारियों से अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है.

गृह मंत्री असदुज्जमां खान ने कहा कि चटगांव के कमिला में हमलों के पीछे लोगों का पता लगाया जाएगा. उन्हें शक है कि यह घटना तोड़फोड़ की कार्रवाई है.

ढाका में पूजा करने से रोका गया
इससे एक दिन पहले राजधानी ढाका (Dhaka) में हिंदू समुदाय (Hindu Community) को दुर्गा पूजा करने से रोका गया था. टीपू सुल्तान रोड पर मौजूद दुर्गा मंदिर में हिन्दुओं को स्थानीय मुस्लिम दबंगों ने नवरात्रि की पूजा करने से रोका.

ये भी पढ़े : महाराष्‍ट्र: नवाब मलिक को मिल रही धमकी, NCB की जांच पर सवाल उठाने पर

‘बांग्लादेश हिंदू यूनिटी काउंसिल’ ने सोशल मीडिया के जरिए इस संबंध में जानकारी देकर बताया कि स्थानीय इस्लामी चरमपंथियों ने नवरात्रि के दौरान शंखनिधि मंदिर में हिन्दु श्रद्धालुओं को मां दुर्गा की पूजा नहीं करने दी. हालांकि, वहां की सरकार ने दुर्गा पूजा के लिए हिंदुओं को एक अस्थायी जगह प्रदान की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *